Truecaller का काम सिर्फ कॉलर की पहचान नहीं, और भी है बहुत कुछ

by:

ऐप्स


उम्मीद है कि आप में से ज़्यादातर लोग Truecaller के बारे में जानते होंगे? फिर भी हम आपको एक बार फिर इसके बारे में बता देते हैं। Truecaller ऐप मुख्य तौर पर आपके मोबाइल पर कॉल कर रहे शख्स की पहचान करता है। मतलब अगर आपको किसी अनजान नंबर से कॉल आता है तो यह ऐप बताता है कि कॉल करने वाला कौन है। इस तरह से हम में से ज्यादातर यूज़र टेलीमार्केटिंग या स्पैम कॉल से बच जाते हैं। अब सवाल उठता है कि क्या Truecaller का एक मात्र काम यही है? इसका जवाब है, नहीं। ट्रूकॉलर अब सिर्फ कॉलर आइडेंटिफिकेशन ऐप नहीं रहा। इस ऐप आप बैंकिंग सुविधाओं का भी फायदा उठा सकते हैं। इसका इस्तेमाल कॉल रिकॉर्ड करने के लिए किया जा सकता है। इस बेहद ही लोकप्रिय ऐप में और भी कई फीचर हैं। आइए आपको इनके बारे में बताते हैं।

कॉलर की पहचान
आपके मन में भी यही सवाल होगा कि Truecaller  पर कॉल करने वाले शख्स की पहचान कैसे होती है। अगर कॉन्टेक्ट कार्ड ब्लू रंग का है तो कॉलर सही है। आप बिना किसी झिझक के कॉल को उठा सकते है। वहीं, लाल रंग का कॉन्टेक्ट कार्ड मिलने पर आपको पहले ही कॉल के गैर-ज़रूरी होने का संदेश मिल जाएगा। दरअसल, Truecaller कॉलर की पहचान अपने यूज़र के फोन बुक और यूज़र से इनपुट लेकर करता है। यही वजह से कई लोग ट्रूकॉलर ऐप को निजता का उल्लंघन का आरोपी मानते हैं।

कॉल रिकॉर्डिंग की सुविधा
Truecaller ने हाल ही में एंड्रॉयड यूज़र के लिए नई कॉल रिकॉर्डिंग की सुविधा दी थी। वैसे, यह फीचर ट्रूकॉलर प्रीमियम यूज़र के लिए है। अब जब ट्रूकॉलर प्रीमियम यूज़र कॉल डायल या रिसीव करते हैं, वे ट्रूकॉलर आईडी स्क्रीन पर रिकॉर्डिंग फीचर का टॉगल ऑन कर सकते हैं। रिकॉर्डिंग जाकर यूज़र के फोन में स्टोर हो जाता है। जिन यूज़र के पास प्रीमियम सब्सक्रिप्शन नहीं है, वे इस फीचर को 14 दिन के मुफ्त ट्रायल में भी ला सकते हैं।

ट्रूकॉलर फ्लैश मैसेजिंग
ट्रूकॉलर 8 एंड्रॉयड ऐप में फ्लैश मैसेजिंग सपोर्ट आया। मान लीजिए कि आप किसी मीटिंग में हैं, या फिर आपातकालीन स्थिति में फंसे हैं। फ्लैश मैसेजिंग की मदद से आप किसी भी ट्रूकॉलर यूज़र को पहले से लिखे मैसेज झट से भेज सकते हैं। इसके अलावा ट्रूकॉलर यूज़र उन्हें अपनी लोकेशन के अलावा इमोजी भी भेज सकते हैं।

Truecaller Pay
ट्रूकॉलर पे में आप वर्चुअल पेमेंट एड्रेस बना सकते हैं। जिसका इस्तेमाल किसी भी यूपीआई आधारित ट्रांजेक्शन के लिए किया जा सकता है। अगर आपका बैंक यूपीआई को सपोर्ट करता है तो आप ट्रूकॉलर पे के ज़रिए पैसे भेज या रिसीव कर पाएंगे। आप इस वॉलेट से पेटीएम की तरह अलग-अलग किस्म के रीचार्ज कर पाएंगें, या टाटा स्काय अकाउंट को रीचार्ज कर सकेंगे। यूज़र चाहें तो ट्रूकॉलर पे के ज़रिए प्रीपेड का रीचार्ज और पोस्टपेड बिल का भुगतान कर पाएंगे।

कॉन्टेक्ट, कॉल हिस्ट्री, ब्लॉक लिस्ट का बैकअप
सिर्फ एक बटन पर क्लिक करने से, ट्रूकॉलर आपके सभी कॉन्टेक्ट, कॉल हिस्ट्री, कॉल लॉग, ब्लॉक लिस्ट को बैकअप कर सकता है। आप इन फाइल को सेटिंग प्रीफरेंस में जाकर गूगल ड्राइव पर स्टोर कर पाएंगे। ज़रूरत पड़ने पर आप इन्हें बाद में रीस्टोर कर पाएंगे। ट्रूकॉलर बैकअप विकल्प से यूज़र को अपना स्मार्टफोन बदलने, नया सिम कार्ड पाने या हैंडसेट रीसेट करने व ऐप दोबारा इंस्टॉल करने के दौरान मदद मिलेगी।

Truecaller से वीडियो कॉलिंग
ट्रूकॉलर ऐप में यूज़र कॉन्टेक्ट सेक्शन में जाकर चुनिंदा कॉन्टेक्ट को वीडियो कॉल भी कर सकते हैं। ऐसा गूगल डुओ वीडियो कॉलिंग ऐप के ज़रिए संभव होता है। इस ऐप में मैसेज भेजने और वॉयस कॉल फीचर शुरुआत से रहा है, लेकिन वीडियो कॉलिंग फ़ीचर लाते वक्त इस ऐप का मकसद व्हाट्सऐप को चुनौती देने का था।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *